8.3 C
New York
Friday, April 19, 2024

Buy now

spot_img

वो बरेली का अहमद रजा है Wo Bareli Ka Ahmad Raza Hai Full

- Advertisement -

वो बरेली का अहमद रजा है नात शरीफ लिरिक्स Wo Bareli Ka Ahmad Raza Hai Lyrics Hindi English wo bareli ka ahmad raza hai naat lyrics Ahmed Raza Khan Barelvi Naat

Wo Bareli Ka Ahmad Raza Hai

Naat LyricsWo Bareli Ka Ahmad Raza Hai
Naat KhawanAmir HamZa Khalilabadi
CategoryNaat Sharif
Lyrics PDFNA
MP3NA
VIdioWatch Here
वो बरेली का अहमद रजा है नात शरीफ Wo Bareli Ka Ahmad Raza Hai

वो बरेली का अहमद रजा है नात शरीफ

ग़ौसे आज़म का दीवाना वो है

- Advertisement -

ख़्वाजा का मस्ताना

जो मुहम्मद पे दिल से फ़िदा है

- Advertisement -

वो बरेली का अहमद रज़ा है

दसवीं तारीख थी, माहे शव्वाल था

घर नक़ी खान के बेटा पैदा हुवा

नाम अहमद रज़ा जिस का रखा गया

आला हज़रत ज़माने का वो बन गया

वो मुजद्दिदे-ज़माना, इल्मो-हिक़मत का खज़ाना

जिस ने बचपन में फ़तवा दिया है

वो बरेली का अहमद रज़ा है

जब वो पैदा हुवा नूरी साए तले

वादी-ए-नज्द में आ गए ज़लज़ले

कैसे उसकी फ़ज़ीलत का सूरज ढल

जिस की अज़मत का सिक्का अरब में चले

जिस का खाएं उसका गाएं, उस का नारा हम लगाएं

जिस का नारा अरब में लगा है

वो बरेली का अहमद रज़ा है

जब रज़ा खां को बैअत की ख़्वाहिश हुई

पहुंचे मारेहरा और उम्र बाइस की थी

फैज़े-बरकात से ऐसी बरकत मिली

साथ बैअत के फ़ौरन ख़िलाफ़त मिली

आला हज़रत उनको तन्हा सिर्फ मैं ही नहीं कहता

अच्छे अच्छों को कहना पड़ा है

वो बरेली का अहमद रज़ा है

उस मुजद्दिद ने लिखा है ऐसा सलाम

जिस को कहती है दुनिया इमामुल-कलाम

पढ़ रहे हैं फिरिश्ते जिसे सुब्हो-शाम

मुस्तफ़ा जाने-रेहमत पे लाखो सलाम

प्यारा प्यारा ये सलाम, किस ने लिखा ये कलाम?………

पूछते क्या हो सब को पता है

वो बरेली का अहमद रज़ा है

मसलके बू-हनीफ़ा का एलान है

मसलके आला हज़रत मेरी शान है

जो उलझता है इस से वो ताबान है

वो तो इन्सां नहीं बल्कि शैतान है

बू-हनीफ़ा ने जो लिखा आला हज़रत ने बताया

कौन कहता है मसलक नया है

वो बरेली का अहमद रज़ा है

Wo Bareli Ka Ahmad Raza Hai Lyrics

Gaowse Aazam Kaa Diivaanaa Vo Hai

Khavaajaa Kaa Mastaanaa

Jo Muhammad Pe Dil Se Fidaa Hai

Vo Barelii Kaa Ahamad Razaa Hai

Dasaviin Taariikh Thii, Maahe Shavvaal Thaa

Ghar Nakaii Khaan Ke BeṬAa Paidaa Huvaa

Naam Ahamad Razaa Jis Kaa Rakhaa Gayaa

Aalaa Hazarat Zamaane Kaa Vo Ban Gayaa

Vo Mujaddide-Zamaanaa, Ilmo-Hikamat Kaa Khazaanaa

Jis Ne Bachapan Men Fatavaa Diyaa Hai

Vo Barelii Kaa Ahamad Razaa Hai

Jab Vo Paidaa Huvaa Nuurii Saae Tale

Vaadii-E-Najd Men Aa Gae Zalazale

Kaise Usakii Faziilat Kaa Suuraj ḌHal

Jis Kii Azamat Kaa Sikkaa Arab Men Chale

Jis Kaa Khaaen Usakaa Gaaen, Us Kaa Naaraa Ham Lagaaen

Jis Kaa Naaraa Arab Men Lagaa Hai

Vo Barelii Kaa Ahamad Razaa Hai

Jab Razaa Khaan Ko Baiat Kii Khavaahish Huii

Pahunche Maareharaa Owr Umr Baais Kii Thii

Phaize-Barakaat Se Aisii Barakat Milii

Saath Baiat Ke Fowran Khailaafat Milii

Aalaa Hazarat Unako Tanhaa Sirph Main Hii Nahiin Kahataa

Achchhe Achchhon Ko Kahanaa Padaa Hai

Vo Barelii Kaa Ahamad Razaa Hai

Us Mujaddid Ne Likhaa Hai Aisaa Salaam

Jis Ko Kahatii Hai Duniyaa Imaamul-Kalaam

Padh Rahe Hain Phirishte Jise Subho-Shaam

Mustafaa Jaane-Rehamat Pe Laakho Salaam

Pyaaraa Pyaaraa Ye Salaam, Kis Ne Likhaa Ye Kalaam?

Puuchhate Kyaa Ho Sab Ko Pataa Hai

Vo Barelii Kaa Ahamad Razaa Hai

Masalake Buu-Haniifaa Kaa Elaan Hai

Masalake Aalaa Hazarat Merii Shaan Hai

Jo Ulajhataa Hai Is Se Vo Taabaan Hai

Vo To Insaan Nahiin Balki Shaitaan Hai

Buu-Haniifaa Ne Jo Likhaa Aalaa Hazarat Ne Bataayaa

Kown Kahataa Hai Masalak Nayaa Hai

Vo Barelii Kaa Ahamad Razaa Hai

Related Articles

- Advertisement -spot_img

Latest Articles