2.1 C
New York
Thursday, February 29, 2024

Buy now

spot_img

रोजा रखने और खोलने की दुआ हिंदी में | Roza Rakhne Ki Dua Full in Hindi

- Advertisement -

Roza Rakhne Ki Dua in Hindi roja kholne ki dua रोजा खोलने की दुआ रोजा रखने की नियत रोजा खोलने और रखने की दुआ हिंदी में उर्दू में रोजा रखने की हिंदी दुआ नियत

रमजान का महीना बहुत ही नजदीक आ चूका है ऐसे में सहरी एंव इफ्तार का होना आम सी बात होगी लेकिन सहरी एंव इफ्तार करने से पहले इसके लिए रमजान की नियत एंव दुआ करना या पढ़ना बेहद जरुरी है

- Advertisement -

हदीसो के मुताबिक़ अगर कोई मुसलमान बिना रोजा के नियत के सहरी करता है ऐसे में रोजा मान्य या स्वीकार नहीं होता है बिना नियत का रोजा रहने वाले को भूखा कहा जा सकता है रोजेदार नहीं इसलिए रमजान का रोजा रहने से पहले सहरी की नियत बेहद जरुर है

जब हम दिन भर रमजान का रोजा रहकर शाम को इफ्तार करते है ऐसे में अल्लाह के नाम के बिना उसके दिए रिज्क को हाथ कैसे लगा सकते है? ऐसे में इफ्तार की दुआ पढ़ कर रमजान का इफ्तार करना चाहिए

- Advertisement -

Ramzan 2023 में कब है?

Ramzan 2023: 23 मार्च 2023 को इंशाअल्लाह पहला रमजान का रोजा रखा जाएगा ऐसे में रोजा की नियत की दुआ और रमजान के इफ्तार की की दुआ याद कर ले तो बेहतर है अगर याद नहीं है तो देख कर भी पढ़ सकते है

रमजान का महीना इस्लाम समुदाय के लिए बहुत ही पवित्र महीना है ऐसे में हम सब इंशाअल्लाह इस साल पुरे 30 रोजा रखेंगे और सवाब से मालामाल होंगे

नियत रोजा रखने की हिंदी में | Roza Rakhne Ki Dua

रमजान में सुबह में उठाकर अजान होने से पहले रोजा रखने के लिए सहरी/सेहरी की जाती है साथ ही रोजा रखने की नियत या दुआ भी पढ़ी जाती है रोजा की नियत दुआ हिंदी में उर्दू में और तर्जुमा की जानकारी दे रहे है जो निम्नवत है:-

Roza Rakhne Ki Dua
<a href=httpsnaathindicomsehri ki niyat dua hindi data type=URL data id=httpsnaathindicomsehri ki niyat dua hindi>Roza Rakhne Ki Dua | Sehri Ki Niyat<a>

दुआ नियत रोजा रखने की
“व बि सोमि गदिन नवई तु मिन शहरी रमजान”
तर्जुमा
“मैं रमजान के इस रोजे की नियत करता/करती हूँ”

नियत दुआ रोजा रखने की हिंदी में

[Dua] Roza Rakhne Ki Niyat In ENglish

Dua Roza Rakhne Ki Niyat
Wa bisawmi ghadinn nawaiytu min shahri ramadan
Tarjuma
Main Ramzan Ke Is Roze Ki Niyat Karta/Karti Hu

Roza Rakhne Ki Niyat In ENglish

दुआ नियत उर्दू रोजा रखने की

रोजा रखने की नियत दुआ उर्दू में
وَبِصَوْمِ غَدٍ نَّوَيْتُ مِنْ شَهْرِ رَمَضَانَ
तर्जुमा
اورمیں نے ماہ رمضان کے کل کے روزے کی نیت کی

[उर्दू] रोजा नियत दुआ उर्दू में

रोजा खोलने की दुआ हिंदी में | इफ्तार की दुआ

दिन भर अल्लाह की इबादत करने के बाद शाम का समय इफ्तार का होता है इफ्तार करने से पहले इफ्तार की दुआ जरुर पढ़ें जो निम्नवत है:-

Dua Roza Kholne Ki | Iftar Ki dua

दुआ रोजा खोलने की हिंदी में
अल्लाहुम्म लका सुम्तु व अला रिज़क़िका अफतरत
तर्जुमा
ऐ अल्लाह। मैंने तेरी रजा के लिए रोजा रखा/रखी और तेरी ही रज्कक पर इफ़्तार खोल रहा/रही हूं.

दुआ रोजा खोलने की हिंदी में | इफ्तार की दुआ

Roza Kholne Ki Dua In ENglish

Dua Roza Kholne Ki In ENglish
Allahumma inni laka sumtu wa bika aamantu wa ‘alayka tawakkaltu wa ‘ala rizq-ika aftarthu
Tarjuma

Dua Roza Kholne Ki Niyat In ENglish

[उर्दू] रोजा खोलने की दुआ उर्दू में

दुआ रोजा खोलने की उर्दू में
“اَللّٰھُمَّ لَکَ صُمْتُ وَعَلٰ رِزْقِکَ اَفْطَرْتُ”
तर्जुमा
اے الل, میں نے تیری خاطر روزہ رکھا اور تیرے اوپر ایمان لایا اور تجھ پر بھروسہ کیا اورتیرے رزق سے اسے کھول رہا ہوں।

[उर्दू] रोजा खोलने की दुआ उर्दू में

रमजान रोजा रखने और खोलने की दुआ नियत हिंदी में

  • रमजान का रोजा रखने की दुआ या नियत
  • “व बि सोमि गदिन नवई तु मिन शहरी रमजान”
  • इफ्तार यानी रमजान का रोजा खोलने की दुआ
  • अल्लाहुम्म लका सुम्तु व अला रिज़क़िका अफतरत

Related Articles

- Advertisement -spot_img

Latest Articles