4.5 C
New York
Thursday, February 29, 2024

Buy now

spot_img

हमको बुलाना या रसूल अल्लाह Hum Ko Bulana Ya Rasool Allah Lyrics Full

- Advertisement -

हमको बुलाना या रसूल अल्लाह Hum Ko Bulana Ya Rasool Allah Lyrics humko bulana ya rasool allah Naat lyrics in hindi हमको बुलाना या रसूल अल्लाह lyrics नजम

Hum Ko Bulana Ya Rasool Allah Naat Sharif

Naat Sharif LyricsHum Ko Bulana Ya Rasool Allah
Naat KhawanNA
CategoryNaat Lyrics
YoutubeWatch Here
PDFNA
MP3 VidioUPdate Soon
हमको बुलाना या रसूल अल्लाह Hum Ko Bulana Ya Rasool Allah Lyrics Full

हमको बुलाना या रसूल अल्लाह लिरिक्स

हम को बुलाना या रसूलल्लाह

- Advertisement -

हम को बुलाना या हबीबल्लाह

कभी तो सब्ज़ गुम्बद का उजाला हम भी देखेंगे

- Advertisement -

हमें बुलवाऐंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे

हम को बुलाना या रसूलल्लाह हम को बुलाना या रसूलल्लाह

तड़प उठेगा ये दिल या धड़कना भूल जाऐगा

दिले बिस्मिल का उस दर पर तमाशा हम भी देखेंगे

हमें बुलवाऐंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे

कभी तो सब्ज़ गुम्बद का उजाला हम भी देखेंगे

हमें बुलवाऐंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे

हम को बुलाना या रसूलल्लाह हम को बुलाना या रसूलल्लाह

अदब से हाथ बाँधे उन के रोज़े पर खड़े होंगे

सुनहरी जालियों का यूँ नज़ारा हम भी देखेंगे

हमें बुलवाऐंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे

कभी तो सब्ज़ गुम्बद का उजाला हम भी देखेंगे

हमें बुलवाऐंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे

हम को बुलाना या रसूलल्लाह हम को बुलाना या रसूलल्लाह

दरे दौलत से लौटाया नहीं जाता कोई खाली

वहाँ खैरात का बंटना खुदाया हम भी देखेंगे

हमें बुलवाऐंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे

कभी तो सब्ज़ गुम्बद का उजाला हम भी देखेंगे

हमें बुलवाऐंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे

हम को बुलाना या रसूलल्लाह हम को बुलाना या रसूलल्लाह

बरसती गुम्बदे ख़जरा से टकराती हुई बूँदें

वहाँ पर शान से बारिश बरसना हम भी देखेंगे हमें

बुलवाऐंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे

कभी तो सब्ज़ गुम्बद का उजाला हम भी देखेंगे

हमें बुलवाऐंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे

हम को बुलाना या रसूलल्लाह हम को बुलाना या रसूलल्लाह

गुज़ारे रात-दिन अपने इसी उम्मीद पर हम ने

किसी दिन तो जमाले रुए ज़ैबा हम भी देखेंगे

हमें बुलवाऐंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे

कभी तो सब्ज़ गुम्बद का उजाला हम भी देखेंगे

हमें बुलवाऐंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे

हम को बुलाना या रसूलल्लाह हम को बुलाना या रसूलल्लाह

दमे रुखसत क़दम मन भर के हैं महसूस करते हैं

किसे है जाके लौट आने का यारा हम भी देखेंगे

हमें बुलवाऐंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे

कभी तो सब्ज़ गुम्बद का उजाला हम भी देखेंगे

हमें बुलवाऐंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे

हम को बुलाना या रसूलल्लाह हम को बुलाना या रसूलल्लाह

पहुँच जाऐंगे जिस दिन ऐ उजागर उन के कदमों में

किसे कहते हैं जन्नत का नज़ारा हम भी देखेंगे

हमें बुलवाऐंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे

कभी तो सब्ज़ गुम्बद का उजाला हम भी देखेंगे

हमें बुलवाऐंगे आक़ा मदीना हम भी देखेंगे

हम को बुलाना या रसूलल्लाह हम को बुलाना या रसूलल्लाह

Hum Ko Bulana Ya Rasool Allah Lyrics

Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah

Ham Ko Bulaanaa Yaa Habiiballaah

Kabhii To Sabz Gumbad Kaa Ujaalaa Ham Bhii Dekhenge

Hamen Bulavaaainge Aakaaa Madiinaa Ham Bhii Dekhenge

Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah

Tadap UṬHegaa Ye Dil Yaa Dhadakanaa Bhuul Jaaaigaa

Dile Bismil Kaa Us Dar Par Tamaashaa Ham Bhii Dekhenge

Hamen Bulavaaainge Aakaaa Madiinaa Ham Bhii Dekhenge

Kabhii To Sabz Gumbad Kaa Ujaalaa Ham Bhii Dekhenge

Hamen Bulavaaainge Aakaaa Madiinaa Ham Bhii Dekhenge

Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah

Adab Se Haath Baandhe Un Ke Roze Par Khade Honge

Sunaharii Jaaliyon Kaa Yuun Nazaaraa Ham Bhii Dekhenge

Hamen Bulavaaainge Aakaaa Madiinaa Ham Bhii Dekhenge

Kabhii To Sabz Gumbad Kaa Ujaalaa Ham Bhii Dekhenge

Hamen Bulavaaainge Aakaaa Madiinaa Ham Bhii Dekhenge

Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah

Dare Dowlat Se LowṬAayaa Nahiin Jaataa Koii Khaalii

Vahaan Khairaat Kaa BanṬAnaa Khudaayaa Ham Bhii Dekhenge

Hamen Bulavaaainge Aakaaa Madiinaa Ham Bhii Dekhenge

Kabhii To Sabz Gumbad Kaa Ujaalaa Ham Bhii Dekhenge

Hamen Bulavaaainge Aakaaa Madiinaa Ham Bhii Dekhenge

Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah

Barasatii Gumbade Khajaraa Se ṬAkaraatii Huii Buunden

Vahaan Par Shaan Se Baarish Barasanaa Ham Bhii Dekhenge Hamen

Bulavaaainge Aakaaa Madiinaa Ham Bhii Dekhenge

Kabhii To Sabz Gumbad Kaa Ujaalaa Ham Bhii Dekhenge

Hamen Bulavaaainge Aakaaa Madiinaa Ham Bhii Dekhenge

Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah

Guzaare Raat-Din Apane Isii Ummiid Par Ham Ne

Kisii Din To Jamaale Rue Zaibaa Ham Bhii Dekhenge

Hamen Bulavaaainge Aakaaa Madiinaa Ham Bhii Dekhenge

Kabhii To Sabz Gumbad Kaa Ujaalaa Ham Bhii Dekhenge

Hamen Bulavaaainge Aakaaa Madiinaa Ham Bhii Dekhenge

Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah

Dame Rukhasat Kadam Man Bhar Ke Hain Mahasuus Karate Hain

Kise Hai Jaake Lowṭ Aane Kaa Yaaraa Ham Bhii Dekhenge

Hamen Bulavaaainge Aakaaa Madiinaa Ham Bhii Dekhenge

Kabhii To Sabz Gumbad Kaa Ujaalaa Ham Bhii Dekhenge

Hamen Bulavaaainge Aakaaa Madiinaa Ham Bhii Dekhenge

Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah

Pahunch Jaaainge Jis Din Ai Ujaagar Un Ke Kadamon Men

Kise Kahate Hain Jannat Kaa Nazaaraa Ham Bhii Dekhenge

Hamen Bulavaaainge Aakaaa Madiinaa Ham Bhii Dekhenge

Kabhii To Sabz Gumbad Kaa Ujaalaa Ham Bhii Dekhenge

Hamen Bulavaaainge Aakaaa Madiinaa Ham Bhii Dekhenge

Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaah Ham Ko Bulaanaa Yaa Rasuulallaaha

Related Articles

- Advertisement -spot_img

Latest Articles